Gond Katira Ke Fayde aur Side Effects : गोंद कतीरा

gond katira

दोस्तों हमारे आयुर्वेद में जड़ी बूटियों और पेड़ पौधों का बहुत अहम योगदान है. आयुर्वेद में जड़ी बूटियों के पत्तों फूलों से लेकर  जड़ और गोंद तक का इस्तेमाल किया जाता है. आज हम पेड़ की गोंद के फायदों की बात करेंगे। दरअसल गोंद पेड़ के तने को चीरा लगाकर निकाली जाती है और उसके बाद सूखने के लिए रख दी जाती है. लेकिन यह हर किसी पेड़ से नहीं निकलती। जो गोंद खाने के लिए इस्तेमाल की जाती है वह ज्यादातर कीकर, बबूल और नीम के पेड़ की इस्तेमाल की जाती है.

 इन सभी पेड़ों की गोद की तासीर भी अलग अलग रहती है. कुछ की तासीर गर्म है तो कुछ की तासीर ठंडी है.

आज हम ठंडी तासीर वाले गोंद कतीरा (TRAGACANTH GUM) के बारे में बात करेंगे। गोंद कतीरा ज्यादातर पंजाब राजस्थान दिल्ली और यूपी में इस्तेमाल किया जाता है. खाने में भी काफी स्वादिष्ट होता है और इसके काफी ज्यादा फायदे भी रहते हैं.

इसका इस्तेमाल दवाओं के साथ ही एनर्जी ड्रिंक्स, आइसक्रीम, सौंदर्य प्रोडक्ट्स आदि में भी होता है। 

गोंद कतीरा के फायदे : Gond Katira Benefits in Hindi

कमजोरी दूर करें

गोंद कतीरा में ढेर सारा प्रोटीन और फॉलिक एसिड पाया जाता है। इसके सेवन से शरीर को तुरंत ताकत मिलती है। इसे खाने से खून गाढ़ा होता है। 20 ग्राम गोंद कतीरा को एक गिलास पानी या फिर दूध में भिगो कर रखें और फिर सुबह मिश्री मिलाकर शर्बत बनाकर पिएं।

स्वपनदोष से छुटकारा।

अगर आपको स्वपनदोष की समस्या है तो रोज रात को सोने से पहले ठंडे दूध में गोंद कतीरा पीने से स्वपनदोष से छुटकारा पाया जा सकता है यह एक रामबाण नित्य की तरह काम करता है.

मासिक धर्म को नियमित करता है.

masic dharam niyamit kare

यदि किसी महिला के मासिक धर्म नियमित नहीं है तो उसे नियमित करने के लिए गोंद कतीरा बहुत ही बढ़िया उपाय है. गोंद कतीरा या फिर गोंद के साथ मिश्री मिलाकर इसे दूध के साथ लिया जा सकता है. या फिर गोंद के लड्डू भी इस्तेमाल कर सकते हैं. प्रेगनेंसी के बाद बच्चा होने के बाद भी गोंद के लड्डू दिए जाते हैं. जिससे कि कमजोरी दूर होती है और मासिक धर्म भी नियमित हो जाता है.

बीपी की समस्या से छुटकारा।

अगर आपका  बीपी अनियमित रहता है तो उसे संतुलित करने के लिए भी गोंद कतीरा का इस्तेमाल किया जा सकता है. गोंद कतीरा को शरबत या फिर ठंडे दूध के साथ लेने से आपका उच्च रक्तचाप की हो   सकता है.

इम्युनिटी बढ़ाता है.

 अगर आप गर्मियों में जल्दी बीमार हो जाते हैं या फिर जल्दी सर्दी खांसी या जुकाम हो जाता है तो भी आप कौन के लड्डू या फिर दूध के साथ गोंद कतीरा इस्तेमाल कर सकते हैं यह आप की इम्युनिटी बढ़ाने में बहुत फायदेमंद रहता है.

ब्रेस्ट का आकार बढ़ाता है.

female chest size

यदि कोई महिला अपने ब्रेस्ट के आकार से संतुष्ट नहीं है अगर आकार छोटा है तो आप रोज गोंद के तीरे का इस्तेमाल कर सकती हैं गोंद कतीरा महिला के ब्रेस्ट का आकार सही करने में बहुत मदद करता है. इसे रात भर भिगोकर सुबह दूध के साथ लेना सही रहता है.

पुरुषों की कामेच्छा बढ़ाता है.

 गोंद कतीरा पुरुषों की कामेच्छा बढ़ाने में भी बहुत सक्षम है. इसके अलावा अनैच्छिक डिस्चार्ज या नाईट डिस्चार्ज को रोकने में मदद करता है। इसका सेवन करने के लिये रात के समय 10 ग्राम गोंद कतीरा को 1 गिलास पानी में भिगो दें। फिर अगली सुबह इसमें 1 चम्‍मच चीनी मिला कर इसका सेवन करें। इसका सेवन दिन में तीन पर ठंडे पानी के साथ कर सकते हैं।

यहां से खरीदे

 गोंद कतीरा के साइड इफेक्ट। Side Effects of Gond Katira

गर्भवती महिला या दूध पिलाने वाली महिला को कौन से दिला पीने से पहले डॉक्टर की सलाह ले लेनी चाहिए।

कुछ लोगों को गोद से एलर्जी भी होती है तो इसलिए खाने से पहले एक बार एलर्जी वगैरह देख ले.

गोंद कतीरा का सेवन करने से पहले अपने शरीर को पूरी तरह से हाइड्रेट रखें। इससे नसें और आंत ब्‍लॉक होने से बचेंगी।

पुरुषों को इसे ज्यादा ना लेने की सलाह दी जाती है.

यह भी पढ़े :

Bicep का साइज कैसे बढ़ाये

Dr Vaidya Herbobuild फायदे नुकसान और उपयोग

अश्वगंधा और शतावरी के फायदे 

पतंजली अश्वशिला कैप्सूल :फायदे नुकसान

Sachi Saheli Tonic : फायदे और उपयोग

Share

2 Comments on "Gond Katira Ke Fayde aur Side Effects : गोंद कतीरा"

  1. kasam se ye jankari ek dam real h or kargar b main isko use kar chuka hu

Leave a comment

Your email address will not be published.


*