भृंगराज के फायदे, नुकसान और उपयोग : Bhringraj in Hindi

bhringraj ke fayde

आयुर्वेद ने हमें कई तरह की नायाब जड़ी बूटियां प्रदान की है। इन्हीं जड़ी बूटियों में से एक है भृंगराज(Bhringraj), भृंगराज (Eclipta Prostrata) काफी समय से आयुर्वेद में इस्तेमाल किया जाता है। इसे अंदरूनी और बाहरी दोनों तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर आप इसकी टेबलेट या फिर कैप्सूल के रूप में उपयोग करते हैं तो यह आपको अंदरूनी फायदा देता है और इम्युनिटी को बढ़ाता है। 

अगर आप इसके चूर्ण को किसी तेल में मिलाकर बालों में लगाते हैं तो बालों को चमकदार बनाता है। बालों को झड़ने से रोकता है और समय से पहले सफेद हो रहे बालों को काला करने में फायदा देता है। 

भृंगराज(Bhringraj) भारत, थाईलैंड और एशिया के कई देशों में पाया जाता है। इसे अंग्रेजी में फॉल्स डेजी  (False Daisy) के नाम से भी जाना जाता है। 

भृंगराज को केशराज भी कहा जाता है यानी कि बालों का राजा। इसे ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसके बालों के लिए बहुत ज्यादा फायदे हैं जैसा कि मैं पहले भी आपको बता चुका हूं। 

भृंगराज के फायदे। Bhringraj Benefits in Hindi 

भृंगराज(Eclipta Prostrata) में कई तरह के औषधीय गुण पाए जाते हैं। इसमें कई तरह के एंटी -ऑक्सीडेंट जैसे कि फ्लेवोनॉयड अलकालाइड इत्यादि पाए जाते हैं जो कि शरीर से हानिकारक पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। इसके साथ-साथ यह आपके लीवर के लिए भी फायदेमंद है। लीवर की सुरक्षा भी करता है। इसमें एंटीमाइक्रोबियल्स गुण भी पाए जाते हैं जो कि हेपेटाइटिस के  वायरस को दूर करने में फायदा करता है। 

बालों के लिए फ़ायदेमंद : Bhringraj For Hairs

silky shiny hairs

दोस्तों जैसा कि मैंने शुरू में आपको बताया कि भृंगराज को केशराज भी कहा जाता है। अगर आपके बाल झड़ रहे हैं, समय से पहले सफेद हो रहे हैं या फिर बालों में रूसी है तो इन सभी समस्याओं से निजात पाने के लिए आप भृंगराज (Bhringraj) का तेल इस्तेमाल कर सकते हैं। भृंगराज के तेल में या फिर भृंगराज की पत्तियों को नारियल तेल या तिल के तेल में उबाल कर आप बालों में लगा सकते हैं। इससे आपको बहुत ज्यादा फायदा मिलेगा। 

घाव भरने के लिए फ़ायदेमंद : Good for wounds

भृंगराज त्वचा के लिए भी फ़ायदेमंद माना जाता है। अगर आपकी त्वचा खराब हो रही है। त्वचा पर कटने, जलने का निशान हो गया है तो उन घाव को दूर करने और निशान को कम करने में यह बहुत ज्यादा फायदा देता है। 

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है: Boost Immunity

Bhringraj Oil खरीदने के लिए दबाये

आयुर्वेदिक चीजें रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए बहुत ज्यादा कारगर मानी जाती हैं तो जिनमें से एक है भृंगराज (Bhringraj) . यह आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाने में बहुत ज्यादा फायदा देता है। यह आपके वाइट ब्लड सेल बनाता है जिससे कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। 

लीवर के लिए फ़ायदेमंद: Good For liver

अगर आपका लीवर खराब हो रहा है, फैटी लीवर है, लीवर में किसी तरह की बैक्टीरियल इनफेक्शन है तो लीवर को सही करने के लिए भी आप भृंगराज का सेवन कर सकते हैं। इसके सेवन के लिए आप एक दिन में दो बार भृंगराज के  कैप्सूल की खुराक ले सकते हैं। खाने के बाद भृंगराज का चूर्ण या फिर कैप्सूल के रूप में लिया जा सकता है. इसे 1 से 2 महीने लगातार लें जिससे आपको फायदा मिलेगा। 

त्वचा के लिए फ़ायदेमंद : Good For skin

जैसा कि मैंने शुरू में आपको बताया था कि भृंगराज त्वचा के लिए भी काफी ज्यादा फ़ायदेमंद माना जाता है। इसमें anti-inflammatory प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं जो कि त्वचा के संक्रमण को दूर करके आपकी त्वचा को चमकदार और क्लियर बनाती है। 

पेट के लिए फायदेमंद: Good For stomach

Bhringraj Oil खरीदे

आजकल पेट की समस्या भी बहुत ज्यादा हो रही है जैसे कि अपच , कब्ज़  इत्यादि। तो कब्ज के लिए भी आप भृंगराज का चूर्ण इस्तेमाल कर सकते हैं। यह पेट को सही रखता है और आपकी आंतों को सुचारु रूप से कार्य करने के सक्षम बनाता है. यह  पेट की सूजन को भी दूर करने में बहुत ज्यादा फ़ायदेमंद है। 

भृंगराज किन किन रूपों में उपलब्ध है

आप भृंगराज, अंदरूनी और बाहरी दोनों तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं। अंदरूनी इस्तेमाल के लिए भृंगराज चूर्ण और गोलियों के रूप में उपलब्ध है और बाहरी इस्तेमाल के लिए भृंगराज का तेल और शैंपू उपलब्ध है। अगर आपके बाल बहुत ज्यादा झड़ रहे हैं तो आप भृंगराज (Bhringraj) का तेल और शैंपू इस्तेमाल कर सकते हैं। 

भृंगराज के नुकसान : Bhringraj Side Effects

वैसे तो आयुर्वेदिक चीजों के कोई नुकसान नहीं है। फिर भी कुछ लोगों को नुकसान झेलने पड़  सकते हैं। जैसे कि 

  • अधिक मात्रा में भृंगराज का सेवन करने से पेट संबंधी समस्या हो सकती है। 
  • गर्भावस्था या स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। 
  • यदि आप मधुमेह से पीड़ित हैं तो आपको शुगर लेवल चेक करना चाहिए। उसके बाद ही इसका सेवन करना चाहिए। 
  • यदि आपको भृंगराज से कोई एलर्जी है तो इसका सेवन नहीं करना चाहिए और डॉक्टर से परामर्श कर करना चाहिए।
Share

Be the first to comment on "भृंगराज के फायदे, नुकसान और उपयोग : Bhringraj in Hindi"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*