Patanjali Giloy Ghanvati in Hindi : पतंजलि गिलोय वटी

Patanjali Giloy tablets

दोस्तों! गिलोय (Tinospora Cordifolia) एक प्रकार की बेल है, जो आमतौर पर जंगली झाड़ियों में पाई जाती है परंतु यह बहुत ही औषधीय बेल है, इसमें बहुत सारे औषधीय गुण पाए जाते हैं। 

पहले इसके बारे में बहुत कम लोगों को पता था लेकिन जैसे-जैसे इंटरनेट लोगों के हाथ में आया है वैसे वैसे इसका ज्ञान भी लोगों को हो रहा है। 

वैसे तो गिलोय की बेल आसानी से मिल जाती है, अगर आपके घर के आसपास गिलोय की बेल नहीं मिल रही तो आप पतंजलि की गिलोय घनवटी भी इस्तेमाल कर सकते हैं जो बाजार में आसानी से मिल जाती है । 

आज हम पतंजलि की गिलोय घनवटी के फायदों के बारे में बात करेंगे। 

गिलोय में बहुत अधिक मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। साथ ही इसमें एंटी इन्फ्लैमटरी (anti-inflammatory) और कैंसर रोधी गुण भी होते हैं। इन्हीं गुणों की वजह से बुखार पीलिया, गठिया, डायबिटीज कब्ज, एसिडिटी अपात्र संबंधी रोगों से यह हमें आराम दिलाती है। 

पतंजलि गिलोय घनवटीआपको आपके नजदीकी पतंजलि स्टोर में आसानी से मिल जाएगी। पहले इसकी कीमत तकरीबन ₹65 थी, लेकिन आजकल इसकी कीमत बढ़ाकर ₹100 कर दी गई है। हो सकता है कि इसकी डिमांड ज्यादा बढ़ गई हो तभी इसकी कीमत भी बढ़ा दी गई है। 

पतंजलि गिलोय घनवटी  के फायदे। Benefits of Patanjali Giloy Ghanwati 

डायबिटीज: विशेषज्ञों के अनुसार गिलोय हाइपोग्लाइसेमिक एजेंट की तरह काम करती है। इसलिए यह टाइप 2 डायबिटीज को नियंत्रित करने में बहुत ज्यादा फायदा देती है। अगर आपका ब्लड शुगर लेवल बढ़ गया है। तो उसे नियंत्रित करने में यह बहुत फायदेमंद है। 

डेंगू: डेंगू के बुखार से बचाव के लिए भी गिलोय का इस्तेमाल किया जाता है। डेंगू के दौरान मरीज को तेज बुखार होता है। तेज बुखार को कंट्रोल करने के लिए एंटीपायरेटिक गुण वाली कोई चीज की जाती है जो कि गिलोय में बहुत प्रचुर मात्रा में पाई जाती है। 

अपच: अगर आपको पेट संबंधी कोई समस्या है जैसे कि कबज़ , एसिडिटी या अपच  तो आप पतंजलि की गिलोय घनवटी इस्तेमाल कर सकते हैं। गिलोय का काढ़ा पी सकते हैं। यह आपकी पेट की परेशानियों को दूर करने में बहुत फायदेमंद रहता है। 

सामान्य बुखार: गिलोय को गुडुची  भी कहा जाता है तो इसलिए इसमें एंटीपायरेटिक गुण तो पाए ही जाते हैं। इसलिए अकेला डेंगू में ही नहीं आपको अगर कोई सामान्य बुखार भी है तो उसमें भी यह इस्तेमाल किया जाता है। 

fever

खांसी: खांसी अगर कई दिनों से आपको खांसी ठीक नहीं हो रही तो गिलोय की गोलियां आप खांसी में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें एंटी एलर्जी गुण पाए जाते हैं जो कि किसी प्रकार की एलर्जी को खत्म करने में काफी फायदा देता है। 

इम्यूनिटी बूस्टर: ज्यादातर बीमारियां हमें हमारी इम्यूनिटी कम होने की वजह से ही होती हैं। इसलिए अगर आप अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना चाहते हैं तो आप गिलोय जूस या फिर गिलोय की गोलियां खाना स्टार्ट कीजिए। यह  इम्यूनिटी को बहुत बढ़ाता है और कई तरह के संक्रमण से भी रोकता है। 

अनिमिया:  कुछ लोगों में खून की कमी पाई जाती है आमतौर पर यह महिलाओं में होता है तो अनिमिया की पीड़ित महिलाओं को भी गिलोय के रस का सेवन करना चाहिए। अगर गिलोय का रस नहीं मिल रहा तो आप पतंजलि गिलोय वटी भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

त्वचा के लिए गुणकारी: त्वचा पर अगर किसी प्रकार की एलर्जी हो गई है तो आप गिलोय का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह आपकी त्वचा पर कील मुंहासे और झाइयां ठीक करने में भी फायदा देता है। 

गठिया रोग:  गठिया रोग के लिए भी काफी ज्यादा फायदेमंद माना जाता है। अगर आपको गठिया की प्रॉब्लम है, जोड़ों में दर्द है तो गिलोय की गोलियां आप गठिया में इस्तेमाल कर सकते हैं। 

पतंजलि गिलोय घनवटी घटक :Patanjali Giloy Wati Composition

घटक ( Composition)मात्रा ( Quantity) 
गिलोय (Tinospora Cordifolia, Stem)500mg
गिलोय घनवटी खरीदने के लिए यहाँ दबाये 

पतंजलि गिलोय घनवटी का सेवन कितनी मात्रा में करना चाहिए? Patanjali Giloy Wati Dose in Hindi

पतंजलि गिलोय घन वटी एक व्यस्क(adult) के लिए 1 टेबलेट दिन में दो बार चिकित्सक की परामर्श से लेना चाहिए। 

गिलोय घनवटी लेने का तरीका :How to Take Patanjali Giloy Ghanwati in Hindi

पतंजलि गिलोय घन वटी एक एडल्ट को एक टेबलेट दिन में दो बार पानी या शहद के साथ लेना चाहिए। अगर आप गिलोय घनवटी के साथ तुलसी का काढ़ा पिएंगे या  तुलसी इस्तेमाल करेंगे तो आपको थोड़ा ज्यादा फायदा मिलेगा। 

पतंजलि गिलोय घनवटी के साइड इफेक्ट्स। Patanjali Giloy Wati Side Effects

वैसे तो गिलोय घनवटी के कोई साइड इफेक्ट नहीं है। यह प्योर आयुर्वेदिक चीज है, लेकिन कुछ चीजों के ज्यादा इस्तेमाल करने से आपको कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं। 

पतंजलि गिलोय घन वटी की मात्रा के लिए चिकित्सा से परामर्श लेना बहुत जरूरी है। 

गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी इस औषधि का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए। 

पतंजलि गिलोय घनवटी का मूल्य : Patanjali Giloy Wati Price

गिलोय घन वटी का मूल्य तकरीबन ₹100 है जिसमें आपको 60 टेबलेट मिलती है।

यह भी पढ़े :

Be the first to comment on "Patanjali Giloy Ghanvati in Hindi : पतंजलि गिलोय वटी"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*