बैद्यनाथ धातुपौष्टिक चूर्ण के फायदे और उपयोग : Dhatupaushtik Churna in Hindi

बैद्यनाथ धातुपौष्टिक चूर्ण के फायदे और उपयोग : Dhatupaushtik Churna in Hindi

दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं धातुपौष्टिक चूर्ण के बारे में. धातुपौष्टिक चूर्ण बहुत सारी कंपनियां बनाती हैं। लेकिन सबसे बेस्ट जो है वह है वैद्यनाथ का. तो आज हम बैद्यनाथ धातुपौष्टिक चूर्ण के बारे में बात करेंगे जो कि एक प्राकृतिक औषधि है।

इसे आप किसी डॉक्टर की सलाह के बिना भी इस्तेमाल कर सकते हैं। जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है धातुपोस्टिक यानि कि धातु रोग में फायदेमंद। जो पुरुष धातु रोग, वीर्यपात, स्वपनदोष या फिर योन कमजोरी की समस्या से जूझ रहे हैं, उन मर्दों के लिए यह बहुत फायदेमंद होता है। 

वेदनाथ द्वारा निर्मित इस दवा में कई तरह की चीजें डाली जाती है जिससे कि यौन समस्याओं से निजात मिलती 

धातुपौष्टिक चूर्ण के घटक |Dhatupaushtik Churna Ingredients

इस दवा को बनाने के लिए मुख्य तौर पर आयुर्वेदिक औषधियों का ही इस्तेमाल किया गया है जो कि किस प्रकार हैं.

  • गोखरू बीज 
  • बीजबन्द 
  • काली मूसली 
  • सोंठ
  • कौंच बीज 
  • काबाब-चीनी
  • बंशलोचन 
  • चोपचीनी
  • काली मिर्च 
  • सालम मिश्री 
  • विदारीकन्द 
  • अश्वगंधा
  • शतावरी

यह सभी जड़ी बूटियों यौन समस्याओं के लिए ही बनाई गई है। 

बैद्यनाथ धातुपौष्टिक चूर्ण के फायदे। Dhatupaushtik Churna Ke Fayde

1 . स्वपनदोष में लाभ 

दोस्तों स्वपनदोष आजकल के युवाओ में आम बात है। भारत में 10% से ज्यादा लोग इसके शिकार हैं। इस परेशानी के कारण शरीर में कमजोरी आने लगती है। और इसके साथ ही और भी कई समस्याएं होने लगती हैं। 

यदि आपको इस प्रकार की बीमारी है या फिर स्वपनदोष से जूझ रहे हैं तो आप धातुपौष्टिक चूर्ण का सेवन कर सकते हैं। यह दवा कुछ ही दिनों में आपके स्वप्नदोष की समस्या को दूर कर देती है। 

2 .नपुंसकता को खत्म करती है। 

दोस्तों, नपुंसकता पुरुष और महिलाओं दोनों को घेर लेती है। खास करके अगर आप शादीशुदा मर्द है तो अगर आप नपुंसक है तो आपको जल्दी से जल्दी इसका इलाज करना चाहिए। यह बीमारी कई कारणों से हो सकती है जैसे कि मधुमेह, हॉरमोन इंबैलेंस होने के कारण इत्यादि  

अगर आप नपुंसकता के शिकार हो रहे हैं तो आपको बच्चा पैदा करने में गर्भधारण करवाने में तकलीफ होगी। यह दवा  इस प्रॉब्लम के लिए भी फायदेमंद रहती है। 

3 . यौन कमजोरी दूर करती है। 

बचपन की गलत आदतों की वजह से, धूम्रपान या फिर शराब आदि पीने से यौन कमजोरी हो जाती है तो यदि आप अपने परिवारिक जीवन का आनंद नहीं ले पा रहे, यौन कमजोरी का शिकार है तो आपको इसका सेवन करना चाहिए। यह दवा आपके शरीर में रक्त संचार को बढ़ाती है जिससे कि यौन समस्याएं खत्म करने में आपको लाभ मिलता है। 

 धातु पौष्टिक चूर्ण खरीदने के लिए दबाये 

4 .शीघ्रपतन की परेशानी से राहत 

यह शीघ्रपतन को भी दूर करती है। अगर आप हर जगह ठीक हैं, लेकिन आपको शीघ्रपतन की समस्या है यानी कि आपका वीर्य जल्दी स्खलन  हो जाता है तो भी यह परेशानी बहुत ज्यादा बढ़ जाती है। इसमें भी आप परिवारिक जीवन का आनंद नहीं ले पाते ना ही आपका पार्टनर इसका आनंद ले पाता है। 

यह परेशानी हॉरमोन इंबैलेंस या फिर मस्तिष्क से जुड़ी कई समस्याओं के कारण भी हो सकती है तो वैद्यनाथ धातुपोस्टिक चूर्ण इसके लिए भी बनाया गया है। यह आपकी परेशानी को जल्द से जल्द दूर करने और सुख लेने में आपको फायदा देती है। 

5 .कामेच्छा में बढ़ोतरी 

उम्र के साथ-साथ कामेच्छा में कमी देखी गई है या फिर आजकल की भागदौड़ भरी लाइफ में भी काम इच्छा की कमी हो जाती है तो अगर आप भी इस परेशानी से जूझ रहे हैं तो आपको धातुपौष्टिक चूर्ण का सेवन करना चाहिए। यह पुरुषों में कामेच्छा को बढ़ाता है जिससे कि आप अपना परिवार सुख ले पाते हैं। 

6. तनाव से राहत 

अगर आपका जीवन बहुत ज्यादा बिजी रहता है लाइफ स्टाइल बहुत! टॉप है तो भी आपको धातुपौष्टिक चूर्ण का सेवन करना चाहिए। यह आपको मानसिक समस्याओंऔर तनाव से राहत देता है। अगर आपका मानसिक संतुलन सही होगा तनाव से राहत होगी तो आपकी सेक्स लाइफ भी अच्छी बीतेगी। 

 धातु पौष्टिक चूर्ण खरीदने के लिए दबाये 

धातु पौष्टिक चूर्ण का सेवन कैसे करें? 

  • इस दवा का सेवन नियमित खाली पेट सुबह और शाम को दूध के साथ करना चाहिए। 1 टीस्पून सुबह और एक  टीस्पून शाम को दूध के साथ सेवन करें। 
  • जब तक आप इसका सेवन कर रहे हैं तब तक खट्टी चीजों का सेवन ना करें और ना ही किसी नशीले पदार्थों का सेवन करें। 
  • अगर आपको भूख बहुत कम लगती है तब भी आपको इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि यह भूख  को कम कर देता है।

यह भी पढ़े :

Be the first to comment on "बैद्यनाथ धातुपौष्टिक चूर्ण के फायदे और उपयोग : Dhatupaushtik Churna in Hindi"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*