शतावर के फायदे और नुकसान :Patanjali Shatavar in Hindi

patanjali shatavar churn

शतावर (Shatavar) भारतीय आयुर्वेद में बहुत पुराने समय से इस्तेमाल की जा रही है, इसीलिए इसका बहुत ज्यादा महत्व है। शतावर आपको भारत में आसानी से मिल जाएगी। यह भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी इस्तेमाल की जा रही है। शतावर कई रूपों में इस्तेमाल की जाती है, लेकिन भारत में यह चूर्ण के रूप में ज़्यादा इस्तेमाल की जाती है और वही विदेशों में यह हरी शतावर या फिर सब्जी के रूप में इस्तेमाल की जाती है तो दोनों शतावर के फायदे तकरीबन एक जैसे हैं। 

जैसे कि यह महिलाओं के लिए बहुत ज्यादा फ़ायदेमंद मानी जाती है। महिलाओं के जवानी से लेकर रजोनिवृत्ति आने तक उम्र के सभी पपढ़ावो में यह फ़ायदेमंद मानी जाती है। 

उसी तरह पुरुषों के लिए भी यह काफी ज्यादा फ़ायदेमंद है। पुरुषों में वजन बढ़ाने, वीर्य बढ़ाने, सेक्सुअल स्टैमिना  इत्यादि में काफी ज्यादा फ़ायदेमंद मानी जाती है। 

अगर आप शतावर इस्तेमाल नहीं कर रहे तो यह लेख पढ़ने के बाद आप एक बार शतावर जरूर इस्तेमाल करेंगे। 

शतावर आपको बाजार में आसानी से मिल जाएगी। आज हम पतंजलि के शतावरी चूर्ण (Shatavar) की बात करेंगे। पतंजलि शतावर चूर्ण आपको ऑनलाइन या पतंजलि के स्टोर में आसानी से मिल जाएगा। 

शतावर क्या है : What is Shatavar

शतावर एक जड़ी बूटी है जो कि आयुर्वेद में बहुत पुराने समय से इस्तेमाल की जा रही है। यह तीन प्रकार की होती है। हरी शतावर, सफेद शतावर और बैंगनी शतावर।भारत में ज्यादातर सफेद शतावर का चूर्ण इस्तेमाल किया जाता है। इसे अंग्रेजी में एस्पेरेगस (Asparagus) भी कहा जाता है। 

शतावर खरीदने के लिए दबाये 

पतंजलि शतावर चूर्ण के फायदे: Patanjali Shatavar Benefits

1.गर्भवती महिलाओं के लिए फ़ायदेमंद

जैसा कि हमने शुरू में बताया कि महिलाओं के लिए शतावर काफी ज्यादा फ़ायदेमंद रहती है तो गर्भवती महिलाएं भी इसका सेवन कर सकती हैं। गर्भवती महिलाएं शतावर सोंठ, अश्वगंधा मुलेठी, भृंगराज को समान मात्रा में चूर्ण बनाकर ले सकती हैं. यह गर्भावस्था में पल रहे शिशु को स्वस्थ रखती है और उसकी ग्रोथ में भी फायदा करती है। 

2.माँ का दूध बढ़ाने में फ़ायदेमंद 

स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को शतावर देना काफी ज्यादा फ़ायदेमंद रहता है क्योंकि स्तनपान करवाने वाली महिलाओं का दूध स्वस्थ और अच्छा होना चाहिए और मात्रा भी ठीक होनी चाहिए। जिन महिलाओं के स्तनों में दूध कम है तो दूध की मात्रा बढ़ाने के लिए उन्हें शतावर देना फ़ायदेमंद रहता है। 

breast feed lady

1 से 2 ग्राम शतावर की जड़ का चूर्ण दूध के साथ सेवन करने से महिलाओं का दूध में बढ़ोतरी होती है और दूध में पौष्टिक तत्व भी बढ़ते हैं। 

3.यूटीआई (UTI) में फ़ायदेमंद 

महिलाओं को कई तरह के संक्रमण हो जाते हैं जैसे कि यूरिनरी ट्रैक्ट इनफेक्शन (UTI) जिसे हम यूटीआई (UTI) बोल देते हैं, तो शतावर लेना काफी ज्यादा फ़ायदेमंद बन जाता है। शतावर में विटामिन A  भरपूर मात्रा में पाया जाता है। यह यूटीआई की समस्या को दूर करने में काफी ज्यादा फायदेमंद दवा मानी जाती है। 

4.रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है

आयुर्वेद की ज्यादातर चीजें रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए खाई जाती हैं तो उसी तरह शतावर का भी फायदा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए माना जाता है। शतावर में कई तरह के विटामिन पाए जाते हैं जैसे कि विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन C जो कि  सक्रमण को दूर करते हैं और आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं। इसमें कई तरह के एंटी ऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं जो कि संक्रमण नहीं होने देते। 

5.अनिद्रा दूर करने में लाभदायक 

कई लोगों को अनिद्रा या फिर नींद ना आने की परेशानी हो जाती है। तो ऐसे लोगों को शतावर फायदा दे सकती है। अगर आप भी अनिद्रा के शिकार हैं तो आपको 2 से 4 ग्राम पतंजलि शतावर चूर्ण दूध के साथ लेना चाहिए। यह नींद ना आने की बीमारी को दूर करने का कारगर तरीका है। 

6.वजन बढ़ाने में फ़ायदेमंद

young bodybuilder

जो लोग कम वजन के लिए परेशान है और वजन बढ़ाना चाहते हैं तो उन लोगों के लिए शतावर काफी फ़ायदेमंद हो सकती है। यह वजन बढ़ाने में बहुत ज्यादा फ़ायदेमंद है। अगर आपका वजन नहीं बढ़ रहा तो आपको शतावर और अश्वगंधा दोनों का सेवन रात को सोने से पहले दूध के साथ करना चाहिए। 

7.गर्भावस्था के बाद की कमज़ोरी में फ़ायदेमंद

बहुत-सी महिलाओं को डिलीवरी  के बाद बहुत सी कमजोरी आ जाती है तो उस कमज़ोरी को दूर करने के लिए शतावर लेने की सलाह दी जाती है। शतावर से शरीर मजबूत होता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है तो अगर आप भी गर्भावस्था से के बाद कमजोरी फील कर रही है तो शतावर का सेवन कर सकते हैं। 

8.कैंसर नहीं होने देता

शतावर के फायदे बहुत ज्यादा माने जाते हैं। यहां तक कि गंभीर बीमारियों जैसे कि कैंसर के सेल बनने से भी बचाता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार माना गया है कि जो लोग शतावर रेगुलरली खाते हैं, उनमें कैंसर के सेल नहीं बनते। शतावर में सल्फाराफेल की मौजूदगी कैंसर के लिए फ़ायदेमंद साबित होती है। 

9.वीर्य बढ़ाता है

sperm count

जिन पुरुषों में कम वीर्य की समस्या है और वह वीर्य बढ़ाना चाहते हैं, उनके लिए भी शतावर फ़ायदेमंद जड़ी बूटी  है। कई बार पुरुषों में भी प्रजनन क्षमता कम होती है, वीर्य कम होता है तो वीर्य को बढ़ाने के लिए पुरुष पतंजलि शतावर का सेवन कर सकते हैं। यह शुक्राणुओं की में वृद्धि करता है और उनकी गुणवत्ता भी बढ़ाता है। 

10.मूत्र विकार में फ़ायदेमंद 

कई अध्ययनों में पाया गया है कि शतावर पेशाब संबंधी परेशानियों में भी फ़ायदेमंद रहता है शतावर को गोखरू के साथ सेवन करने से पेशाब संबंधी समस्याओं से निजात मिलती है। 

पतंजलि शतावर कैसे इस्तेमाल करें :Shatavar Uses and Dose

आप पतंजलि शतावर के 10 से 15 ग्राम पाउडर को रात को सोने से पहले दूध के साथ सेवन कर सकते हैं। 

शतावर खरीदने के लिए दबाये 

पतंजलि शतावर चूर्ण की कीमत : Patanjali Shatavar Price

पतंजलि शतावर चूर्ण की कीमत ₹160 है जिसमें आपको 100 ग्राम की डिब्बी मिलती है। इसमें शुद्ध शतावर चूर्ण डाला गया है। 

पतंजलि शतावर के साइड इफेक्ट : Shatavar Side Effects

पतंजलि शतावर चूर्ण पूर्ण रूप से एक आयुर्वेदिक दवा है तो इसीलिए इसके कोई भी साइड इफेक्ट देखने को नहीं मिले। फिर भी कुछ सावधानियां आपको रखनी चाहिए जैसे कि । 

  • यह 16 साल से कम उम्र के बच्चों से दूर रखना चाहिए। 
  • अगर आपकी कोई दवा इत्यादि चल रही है तो आपको डॉक्टर की सलाह से ही इसका सेवन करना चाहिए। 
  • अगर आप गर्भावस्था से हैं तो आप एक बार डॉक्टर की सलाह से ही इसका सेवन करें।

यह भी पढ़े :

Share

Be the first to comment on "शतावर के फायदे और नुकसान :Patanjali Shatavar in Hindi"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*