Himalaya Liv52 :फायदे ,नुक्सान और उपयोग

Himalaya liv 52

लिव 52 (LIV 52) टेबलेट लीवर के लिए चर्चित और प्रमुख आयुर्वेदिक दवा है। यह मार्केट में बहुत समय से उपलब्ध है। लीवर की देखरेख के लिए मार्केट में बहुत सी दवाएं उपलब्ध है, लेकिन हिमालया की लिव-52 ज्यादा इस्तेमाल की जाती है। हिमालया लिव-52 (Himalaya Liv 52) टेबलेट और सीरप  के रूप में आसानी से मिल जाती है। लिव-52 टेबलेट को कई अनुसंधान के द्वारा लीवर की एक प्रमुख दवा के रूप में प्रमाणित किया गया है। यह एक से अधिक जड़ी बूटियों से बनाई जाती है और सभी का काम लिवर की सफाई करना और लिवर से जुड़ी बीमारियों को दूर करना है। 

क्योंकि लीवर हमारे शरीर का बहुत ही अहम अंग है तो लिवर की सफाई करना हमारे लिए बहुत आवश्यक हो जाता है। लीवर के कारण हमारे पाचन तंत्र की प्रक्रिया सुचारू रूप से चल पाती है। लीवर से निकलने वाले जूस हमारे भोजन को अच्छी तरह से पचाने में मदद करते हैं। अगर लीवर में किसी तरह का संक्रमण हो जाए या  लीवर कमजोर पड़ जाए तो हमारी पाचन क्रिया भी दुरुस्त नहीं रहती। इसलिए अगर आपकी पाचन क्रिया अच्छी नहीं है या लीवर से संबंधित कोई समस्या आ रही है तो आपको लिव-52 टेबलेट का इस्तेमाल करना चाहिए। 

हिमालया लिव-52 टेबलेट और सिरप के लीवर को ठीक करने के इलावा और भी बहुत अधिक फायदे हैं। हिमालया लिव-52 आपको आपके नजदीकी मेडिकल स्टोर में आसानी से मिल जाएगी। हिमालया लिव-52 आपको टेबलेट के रूप में और सीरप के रूप में मिलती है। इसके अलावा हिमालया लिव-52 डी एस (Himalaya Liv 52 DS) भी उपलब्ध है जिसमें सारी जड़ी बूटियां डबल स्ट्रैंथ में डाली गई है। 

हिमालया लिव-52 DS थोड़ी एडवांस है। इसके इलावा Liv 52 HB भी उपलब्ध करवाई जाती है। 

हिमालया लिव-52 के फायदे हिंदी में। Benefits of Himalaya Liv 52

पाचन क्रिया में सुधार

अगर आपकी पाचन क्रिया अच्छी नहीं है और आपको अच्छे से भूख नहीं लगती तो आपके लीवर में कोई समस्या हो सकती है तो ऐसी स्थिति में आपको लिव-52 जरूर इस्तेमाल करना चाहिए। यह आपके पाचन क्रिया को ठीक करता है और लीवर को अच्छे से काम करने में मदद करता है। यह आपकी भूख भी बढ़ाता है। 

कब्ज से राहत 

fever

अगर आप पानी नहीं पी रहे या  किसी और वजह से भी आपको कब्ज की शिकायत है तो लीव  52 आपके पाचन गुणों के साथ-साथ आपको कब्ज़ से भी राहत दिलाने में आपको मदद करता है। 

लीवर में सुधार 

अगर आपके लीवर में कोई समस्या है। फैटी लीवर है या फिर लीवर दुरुस्त नहीं है तो लिवर से जुड़ी सभी बिमारिओ के लिए आप हिमालया लिव-52 टेबलेट का इस्तेमाल कर सकते हैं। लिवर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए हिमालया लिव-52 एक बेहतरीन आयुर्वेदिक मेडिसन के रूप में मानी जाती है। 

हेपेटाइटिस 

हेपेटाइटिस  1 से ज्यादा प्रकार होते हैं। हेपेटाइटिस का कारण लीवर में संक्रमण उत्पन्न होना है जिसके कारण हमारा लीवर कमजोर पड़ता है। हेपेटाइटिस की  बीमारियों में भी डॉक्टरों के द्वारा हिमालया लिव-52 का ही इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। 

पीलिया से छुटकारा

अगर आपको पीलिया हो गया है तो पीलिया का इलाज में भी ली 52 का इस्तेमाल कर सकते हैं। 
लिव-52 बिलीरुबिन के उच्च स्तर को कम करने और पीलिया को कम करने में बहुत बढ़िया काम करती है। 

लीवर डिटॉक्स 

हमारे शरीर में कई विषाक्त पदार्थ इकट्ठे हो जाते हैं जिससे कि हमारा लीवर खराब होना शुरू हो जाता है या लीवर में कोई समस्या उत्पन्न होनी  शुरू हो जाती है। ऐसी समस्याएं ज्यादा  जंक फूड खाने से या फिर शराब पीने से होती है तो अगर आपके लीवर में भी ऐसी समस्या हो रही है तो आप लिव-52 का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप गोलियां या सीरप का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल में काफी ज्यादा फायदा देता है। 

एनीमिया से छुटकारा 

यदि आपके शरीर में खून की कमी है और लंबे समय तक बनी रहती है तो हो सकता है कि आप एनीमिया के रोग से ग्रसित हो। ऐसे में एनीमिया को दूर करने के लिए हिमालया लिव-52 या फिर सिर्फ का इस्तेमाल किया जा सकता है। 

हिमालया लिव-52 के इनग्रेडिएंट्स : Himalaya Liv 52 Ingredients

हिमालया लिव-52 में ज्यादातर जो सामग्री में लाई गई है, वह आयुर्वेदिक है जो के नीचे लिखी गई है।

सामग्री  (चूर्ण में)मात्रा
हिमसरा (capparis spinosa)65 mg
कसानी (cichorium intybus)65 mg
मण्डूर भस्म33 mg
काका मशीन (solanum nigrum) 32 mg
अर्जुन (Terminalia Arjuna) 32 mg
कसमादरा (cassia occidentalis)16 mg
जाभुका (Tamarix gallica)16 mg
बिरंजासीफा (Achillea millefolium)16 mg
हिमालया Liv 52 यहां से खरीदे 

हिमालया लिव-52 कैसे इस्तेमाल करें : How to Use Himalaya Liv 52

5 साल से ऊपर के बच्चों को एक टेबलेट और एडल्ट यानी कि व्यस्त लोगों को दिन में 2 गोलियां खाने की सलाह दी जाती है। अगर आप हिमालया लिव-52 डी एस लेते हैं तो आपके लिए एक गोली खाना ही बेहतर रहता है। बेहतर परिणाम के लिए इस टेबलेट को कुछ गर्म पानी के साथ ले सकते हैं। 

Milk Thistle Ke Fayde : मिल्क थिस्ल के लाभ

हिमालया लिव-52 की कीमत: Liv 52 Price

Himalaya Liv 52 की कीमत 95/- रुपए है और 1 डिब्बी 100 गोलिया होती है 

लिव 52 के साइड इफेक्ट्स : Side Effects of Himalaya Liv 52

वैसे तो लिव 52 की गोलियो के कोई दुष्प्रभाव नही है. अगर ज़्यादा मात्रा में खा ली जाए तो दस्त वगरह लग सकते है. 

यह भी पढ़े

Share

Be the first to comment on "Himalaya Liv52 :फायदे ,नुक्सान और उपयोग"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*